कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू (गीत)

 

कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू, झिर्की ॿोले चूं-चूं-चूं,

तूं बि ॻाल्हाइ मिठिड़ी सिंधी, आहीं सुहिणो सिंधी तूं।

 

सभिनी जी आ पंहिंजी ॿोली, तोखे यादि न माउ जी लोली,

कोठे ते वेठो आ कबूतरु, हू ॿोले थो गुटर गूं।

कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू, झिर्की ॿोले चूं-चूं-चूं,

तूं बि ॻाल्हाइ मिठिड़ी सिंधी, आहीं सुहिणो सिंधी तूं।

 

सिखु तूं भले अंग्रेज़ी हिंदी, मगर भुलाइ न पंहिंजी सिंधी,

माड़ीअ ते वेठी आ ॿिलिड़ी, ॿोले थी म्याऊं-म्याऊं।

कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू, झिर्की ॿोले चूं-चूं-चूं,

तूं बि ॻाल्हाइ मिठिड़ी सिंधी, आहीं सुहिणो सिंधी तूं।

 

सिंधियुनि नाणो ख़ूब कमायो, पर पंहिंजी ॿोलीअ खे भुलायो,

अची बाग़ में मोरु नचे थो, ॿोले थो इयाऊं-इयाऊं।

कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू, झिर्की ॿोले चूं-चूं-चूं,

तूं बि ॻाल्हाइ मिठिड़ी सिंधी, आहीं सुहिणो सिंधी तूं।

 

ॿारनि सां सिंधी ॻाल्हायो, पंहिंजी ॿोली तव्हां बचायो,

टारीअ ते कोइलि थी छेड़े, दिलकश तानूं कुहू-कुहू जूं।

कुकुड़ु थो ॿोले कुकड़ू कू, झिर्की ॿोले चूं-चूं-चूं,

तूं बि ॻाल्हाइ मिठिड़ी सिंधी, आहीं सुहिणो सिंधी तूं।

 

स्वरचित रचना: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

संगीत ऐं गायकी: विकास गुर (लैगोस, नाइजेरिया)

संगीत प्रबन्धक: जय कुमार गुरु (अकोला, भारत)

Leave a Reply

error: Content is protected !!