थिउ सुजाॻु ओ सुहिणा सिंधी (कविता)

थिउ सुजाॻु ओ सुहिणा सिंधी, पंहिंजो फ़र्ज़ु निभाइ तूं,

सिंधियत जो प्यारो परचमु, दुनिया में लहिराइ तूं।

 

इष्ट देव झूलणु आ तुंहिंजो, रहबरु ऐं रखवालो,

हुन दाता खे हरदम पंहिंजे, मन-मंदर में वसाइ तूं,

थिउ सुजाॻु ओ सुहिणा सिंधी, पंहिंजो फ़र्ज़ु निभाइ तूं।

 

जुदा थी वई तोखां सिंधुड़ी, तोखां दूर आ हाणे,

तो वटिआ बसि सिंधी ॿोली, दौलत इहा बचाइ तूं,

थिउ सुजाॻ ओ सुहिणा सिंधी, पंहिंजो फ़र्ज़ु निभाइ तूं।

 

सिंधू सभ्यता जो तूं वारिसु, बेमिसाल तूं आहीं,

तोखे मिलियोआ ताजु शान जो, तंहिंखे अञा सजाइ तूं,

थिउ सुजाॻु ओ सुहिणा सिंधी, पंहिंजो फ़र्ज़ु निभाइ तूं।

 

मिटीअ मां थो सोनु बणाईं, सिंधी आहीं सियाणो,

हाणे पंहिंजी हिन सियाणप सां, जॻ खे सुर्ॻु बणाइ तूं,

थिउ सुजाॻु ओ सुहिणा सिंधी, पंहिंजो फ़र्ज़ु निभाइ तूं।

 

स्वरचित रचना: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

© सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!