दर्दू प्यार जो सहणु ॾुखियो आ (कविता)

दर्दु प्यार जो सहणु ॾुखियो आ

तलवारुनि ते हलणु ॾुखियो आ

 

मांगरमछ हज़ारें हिन में

प्रेम-नदीअ में तरणु ॾुखियो आ

 

प्यार जी दुश्मन दुनिया सारी

कंहिंखे पंहिंजो करणु ॾुखियो आ

 

मुश्किल आहे प्यारु निभाइणु

छाणीअ में जलु भरणु ॾुखियो आ

 

ॾाढी औखी प्यार जी मंज़िल

पतंगु बणिजी जलणु ॾुखियो आ

 

स्वरचित रचना: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

©  सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!