मां आहियां हिकु मुसाफ़िरु (कविता)

 

मां आहियां हिकु मुसाफ़िरु, मूंसां न दिलि लॻाइजाइं

पंहिंजे अखियुनि में मुंहिंजा, तूं ख़्वाब न सजाइजाइं

 

मां तुंहिंजे हिन शहर में, बसि थोरा ॾींहं आहियां

मूं वास्ते वफ़ा जो, महलातु न अॾाइजाइं

मां आहियां हिकु मुसाफ़िरु,मूंसां न दिलि लॻाइजाइं

 

झोंको हवा जो आहियां, हिक हंधि रही न सघंदुसि

मूं लाइ को बि सोनो पिञिरो न तू घुराइजाइं

मांआहियां हिकु मुसाफ़िरु, मूंसां न दिलि लॻाइजाइं

 

नूरानी अथई चहिरो, अल्लह जी महिरबानी

बख़ुदा तूं ख़ुदि खे ग़म जी, तस्वीर न बणाइजाइं

मांआहिया हिकु मुसाफ़िरु, मूंसां न दिलि लॻाइजाइं

 

तूं रोकि जाइं आंसू, तूं रोकि जाइं आहूं

रोकिण जा मूंखे लेकिन, हीला न तूं हलाइजाइं

मां आहियां हिकु मुसाफ़िरु, मूंसा न दिलि लॻाइजाइं

 

रचनाकार: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

गायक: विकास गुर (लागोस, नाइजेरिया)

एलबम: दिल करे थी घोड़ा घोड़ा (१९९७)

©  सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!