हलंदी हलाइजाइं, हथु न मुंझाइजाइं (कविता)

हलंदी हलाइजाइं, हथु न मुंझाइजाइं

ओ मुंहिंजा साईं, मुंहिंजा दुखिड़ा मिटाइजाइं

 

पूॼा पाठु न जपु-तपु ॼाणा

पीरु फ़कीरु न कोई सुञाणा

ॾसु तूं ॿुधाइजाइं, रस्तो सुझाइजाइं

ओ मुंहिंजा साईं, मुंहिंजा दुखिड़ा मिटाइजाइं

 

सोनु घुरा़ न मोती घुरां मां

तुंहिंजे प्यार जी जोती घुरा मां

अर्ज़ु अघाइजाइं, आश पुॼाइजाइं

ओ मुंहिंजा साईं, मुंहिंजा दुखिड़ा मिटाइजाइं

 

तूं दाता ॿाझारो आहीं

तूं सभिनी जो सहारो आहीं

बिगिड़ी बणाइजाइं, भाॻु जॻाइजाइं

ओ मुंहिंजा साईं, मुंहिंजा दुखिड़ा मिटाइजाइं

 

स्वरचित रचना: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

©  सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!