मुंहिंजो मोहनु मूंसां गॾिजण (कविता)

मुंहिंजो मोहनु मूंसां गॾिजण, बागीचे में ईंदो

हू मूंखे झूले ते विहारे, लोॾा हथ सां ॾींदो

 

मोहींदो सभ खे मरलीधरु, मुरली वॼाए मिठिड़ी

जेके हूंदा ॿेर खटिड़ा, मिठिड़ा करे ॾींदो

मुंहिंजो मोहनु मूंसां गॾिजण, बागीचे में ईंदो

 

मोर मुटुक खे पाए ईंदो, हू सुहिणो बनवारी

कांवनि खे हू मोर बणाए, सुहिणा करे ॾींदो

मुंहिंजो मोहनु मूंसां गॾिजण, बागीचे में ईंदो

 

माल्हा वैजयंतीअ जी पाए, नचंदो रासबिहारी

जेके हूंदा कंडा तिनिखे, गुलिड़ा करे ॾींदो

मुंहिंजो मोहनु मूंसां गॾिजण, बागीचे में ईंदो

 

रचनाकार: ईश्वरचंद्र चंचलानी (उज्जैन, भारत)

©  सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!