मां आहियां हिकु मुसाफ़िरु, मूंसां न दिलि लॻाइजाइं पंहिंजे अखियुनि में मुंहिंजा, तूं ख़्वाब न सजाइजाइं…