1 min 0

हलंदी हलाइजाइं, हथु न मुंझाइजाइं (कविता)

हलंदी हलाइजाइं, हथु न मुंझाइजाइं ओ मुंहिंजा साईं, मुंहिंजा दुखिड़ा मिटाइजाइं   पूॼा पाठु न जपु-तपु ॼाणा पीरु फ़कीरु न कोई सुञाणा ॾसु तूं ॿुधाइजाइं, रस्तो सुझाइजाइं ओ मुंहिंजा…
Read More
error: Content is protected !!